कभी-कभी मुझे परीक्षा देने से डर लगता था, फिर इस रणनीति के साथ पहले यूपीएससी को पास किया

प्रथम ने बताया कि सबसे पहले अपना आधार मजबूत करें, कक्षा 6वीं से 12वीं तक की एनसीईआरटी की किताबें पढ़ें। नियमित समाचार पत्र पढ़ते रहें और करेंट अफेयर्स के आधार को मजबूत करें।

आज हम आपको IAS पहले कौशिक की कहानी बताने जा रहे हैं, जिन्होंने ‘मन के हरे हार है, मन के जीत जीत’ जैसे नारे को सच कर दिया। उसने अपने पहले प्रयास में परीक्षा के लिए बहुत अच्छी तैयारी की थी, लेकिन उसके मन में बनी कुछ धारणाओं के कारण वह असफल हो गया।

दूसरे प्रयास में मिली सफलता
पहले प्रयास में की गई गलतियों पर काम करते हुए उन्होंने दूसरा प्रयास दिया। इस बार उनकी मेहनत रंग लाई और उन्होंने यूपीएससी पास कर आईएएस बनने का अपना सपना पूरा किया। उन्होंने बताया कि प्रथम प्रयास का पेपर देने से पहले उनके मन में एक डर था कि पेपर क्लियर करना बहुत मुश्किल है. इस डर से उसने पहला प्रयास किया और असफल रहा।

उम्मीदवारों को दी गई यह सलाह
प्रथम ने बताया कि सबसे पहले अपना आधार मजबूत करें, कक्षा 6वीं से 12वीं तक की एनसीईआरटी की किताबें पढ़ें। नियमित समाचार पत्र पढ़ते रहें और करेंट अफेयर्स के आधार को मजबूत करें। उन्होंने यह भी बताया कि वैकल्पिक विषय का चयन सोच-समझकर करना चाहिए।

यह रणनीति अपनाई
उम्मीदवारों को अपनी गलतियों पर काम करने के बाद एक रणनीति बनानी चाहिए और उसी रणनीति पर लगातार काम करना चाहिए। जिस विषय में समस्या आती है, उस विषय पर सबसे पहले काम करना चाहिए। ऐसा ही करते हुए सिंपल सब्जेक्ट की तरफ जाएं और सभी सब्जेक्ट पर कमांड बनाएं।

आत्मविश्वास और सकारात्मक दृष्टिकोण रखें, असफलता से न डरें और कड़ी मेहनत करते रहें। यूपीएससी के दौरान सेल्फ स्टडी सबसे ज्यादा मददगार साबित होगी, उत्तर लिखने का अभ्यास और रिवीजन भी बहुत जरूरी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.