Breaking News
Home / खबरे / साग सब्जियों से जुड़े इन 5 मिथकों को आप भी तो नहीं मानते सही? जानें इनकी सच्चाई

साग सब्जियों से जुड़े इन 5 मिथकों को आप भी तो नहीं मानते सही? जानें इनकी सच्चाई

साग-सब्जियों से जुड़ी भ्रामक बातों पर विश्वास करने का नतीजा यह होता है कि लोग फायदे के चक्कर में अपना नुकसान कर बैठते हैं। आज हम आपको साग-सब्जियों से जुड़ी ऐसी ही भ्रामक बातों और उनकी सच्चाई के बारे में बताने जा रहे हैं जो लोगों के मन में बैठ चुकी हैं। स्वस्थ भोजन ही स्वस्थ शरीर का आधार होता है। आज के समय में जहां एक तरफ लाखों लोग गलत खानपान की वजह से डायबिटीज और दिल से जुड़ी बीमारियों से पीड़ित हैं वहीं लोगों की खानपान से जुड़ी आदतें भी बदल रही हैं। शरीर को स्वस्थ रखने के लिए जरूरी है कि सही समय पर सही भोजन का सेवन किया जाए। हरी साग सब्जियों का सेवन सेहत के लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है लेकिन इसको लेकर इंटरनेट तमाम भ्रामक बातें भी मौजूद हैं। कई बार लोग इन बातों पर विश्वास कर लेते हैं।
आइये जानते हैं साग-सब्जियों से जुड़े कुछ मिथक और उनकी सच्चाई के बारे में

मिथक 1. हरी साग-सब्जियां आसानी से पच जाती है

सच्चाई – दरअसल हरी पत्तेदार सब्जियां और साग फाइबर की प्रचुर मात्रा से भरपूर होती हैं। इनका सेवन करने के बाद पेट को इन्हें पचाने में अधिक टाइम लगता है। फाइबर की प्रचुर मात्रा मौजूद होने के कारण इन्हें मेटाबोलाइज करने में पेट को अधिक मेहनत करनी पड़ती है। हां, अगर आप सही ढंग से चबाकर इनका सेवन करते हैं तो ये आसानी से पच सकते हैं। ऐसे में यह बात कहना कि हरी साग-सब्जियां आसानी से पच जाती हैं बिलकुल गलत होगा।

मिथक 2. ताजी सब्जियां ही अच्छी होती हैं

Myth and true fact about vegitable

सच्चाई – आज के समय में सब्जियां और फल ताजे, डिब्बाबंद और ड्राई कई रूप में मिलती हैं। तमाम फल और सब्जियां ऐसी होती हैं जिन्हें प्रोसेस्ड करने के बाद मार्केट में भेजा जाता है। ऐसे में आपको यह जान लेना बहुत जरूरी है कि इनका सेवन आपके लिए कितना फायदेमंद होता है। फल और सब्जियां को डिब्बाबंद या ड्राई करके मार्केट में आती हैं वे भी सेहत के लिए उतनी ही फायदेमंद होती हैं। बशर्ते उनकी प्रेसेसिंग में हानिकारक रासायनिक पदार्थों का इस्तेमाल न किया गया हो। भारत के तमाम इलाके ऐसे हैं जहां गोभी जैसी कई सब्जियों को सुखाकर इस्तेमाल किया जाता है। इनमें भी सेहत के लिए फायदेमंद पोषक तत्व मौजूद होते हैं।

Myth and true fact about vegitable

मिथक 3. सभी हरी पत्तेदार सब्जियां और साग सेहत के लिए फायदेमंद होते हैं

सच्चाई – हरी पत्तेदार साग-सब्जियों में ऑक्सलेट, टैनिन और फाइटेट्स जैसे तमाम पोषक तत्व मौजूद होते हैं। इनमें मौजूद पोषक तत्व शरीर के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं लेकिन सभी हरी पत्तेदार साग या सब्जियां सेहत के लिए फायदेमंद नहीं होती हैं। सिर्फ हरी पत्तेदार सब्जियों के सेवन से आप शरीर के लिए जरूरी कुछ पोषक तत्वों के सेवन से वंचित रह सकते हैं। ऑक्सलेट, टैनिन और फाइटेट्स जैसे पोषक तत्व शरीर के लिए नुकसानदायक भी हो सकते हैं। किडनी की पथरी में इनका सेवन बहुत नुकसानदायक माना जाता है।

मिथक 4. हरी साग-सब्जियों में पानी की मात्रा अधिक होती है

सच्चाई – हरी पत्तेदार साग-सब्जियों और सलाद के बारे में यह कहा जाता है कि इनमें पानी की मात्रा अधिक पायी जाती है। लेकिन ऐसा सभी सब्जियों या साग में नहीं होता है। तमाम ऐसी हरी पत्तेदार साग-सब्जियां हैं जिनमें फाइबर की मात्रा अधिक होती है जिसका अधिक मात्रा में सेवन शरीर में वात (सूखापन) की समस्या को बढ़ाने का काम कर सकता है। इसकी वजह से शरीर में दर्द, सूजन और पेट फूलने की समस्या (ब्लोटिंग) भी हो सकती है। इसलिए इनके सेवन से पहले इनमें मौजूद पोषक तत्वों के बारे में जानना बहुत जरूरी है।

Myth and true fact about vegitable

मिथक 5. हाई फाइबर फूड स्किन और बालों के लिए फायदेमंद

सच्चाई – सब्जियों का संतुलित मात्रा में सेवन सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है। लेकिन इसका अधिक सेवन शरीर में वात की समस्या को बढ़ाने का काम करता है। शरीर में वात बढ़ने से बाल पतले हो जाते हैं और कुछ गंभीर मामलों में बाल झड़ने की समस्या भी हो सकती है। इसलिए इनका सेवन हमेशा संतुलित मात्रा में ही करना चाहिए फाइबर का नियमित रूप से उचित मात्रा में सेवन करने से आपको पाचन तंत्र से जुड़ी समस्याओं में फायदा मिलता है।

About neha

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *