छाता देखकर आया बिजनेस का आइडिया, किसी का साथ नहीं दिया, अपनी मेहनत से अम्ब्रेला कंपनी बनाई

0
1

आज के समय में कई युवा ऐसे हैं जो पढ़ाई पूरी करने के बाद भी खुद का बिजनेस करना पसंद करते हैं। हालांकि, हर युवा के लिए यह तय करना बहुत मुश्किल होता है कि किसके साथ बिजनेस करना है। हम आपको एक ऐसे युवक के बारे में बताने जा रहे हैं जिसने पढ़ाई लिखाई के बाद खुद का बिजनेस करने का फैसला किया। इस युवक का नाम प्रतीक दोशी है।

आज प्रतीक डिजाइनर छतरियों का व्यवसाय कर रहे हैं जिससे वह अच्छी खासी कमाई कर रहे हैं। लेकिन उनके लिए इस मुकाम तक पहुंचना वाकई आसान नहीं था। इसके लिए प्रतीक ने दिन रात मेहनत की थी। वहीं इस काम में किसी ने उनका साथ भी नहीं दिया था. लेकिन आज इसी धंधे की वजह से उन्होंने अपनी एक अलग पहचान बना ली है जिसके बाद हर कोई उनकी तारीफ कर रहा है. आइए जानते हैं इस खबर को विस्तार से।

पढ़ाई पूरी करने के बाद बिजनेस करने का फैसला किया

आमतौर पर हर युवा पढ़ाई पूरी करने के बाद वही अच्छी नौकरी पाना चाहता है। युवा भी अच्छी नौकरी के लिए कड़ी मेहनत करते हैं। लेकिन कुछ युवा ऐसे भी हैं जो सिर्फ अपना बिजनेस करना चाहते हैं। उन्हीं में से एक हैं प्रतीक दोशी जो हमेशा से अपना बिजनेस करना चाहते थे। प्रतीक मुंबई, महाराष्ट्र के रहने वाले हैं और आज एक अम्ब्रेला कंपनी के मालिक भी बन गए हैं।

लेकिन यह सफर प्रतीक के लिए आसान नहीं था क्योंकि उन्हें यह रास्ता अकेले ही तय करना था। कॉलेज से स्नातक होने के बाद प्रतीक ने अपना खुद का व्यवसाय करने का फैसला किया था, हालांकि वह अभी तक यह तय नहीं कर पा रहा था कि उसे कौन सा काम करना चाहिए और किस तरह का व्यवसाय करना चाहिए। यह वह समय था जब कई व्यवसाय पहले से ही बाजार में मौजूद थे और प्रतिस्पर्धा भी बहुत अधिक थी इसलिए वे कुछ अनूठा व्यवसाय करना चाहते थे।

छाता देखकर आया बिजनेस आइडिया

दरअसल एक बार प्रतीक बारिश के मौसम में मुंबई की एक लोकल ट्रेन में सफर कर रहे थे। यहां वे बारिश से बचने के लिए अपने घर जा रहे थे। तभी उनकी नजर लोगों के हाथ में छतरी पर गई। उन्हें पता चला कि लोगों के पास सिर्फ काले या हल्के रंग के छाते हैं। किसी के पास डिजाइनर छाता नहीं है। किसी भी छाते पर प्रिंट नहीं था। इन्हीं छतरियों से ही प्रतीक को बिजनेस का आइडिया आया।

उन्होंने अब डिजाइनर छतरियों का व्यवसाय करने का फैसला किया। वे प्रिंट और डिजाइनर छाते बनाना चाहते थे। क्योंकि उन्हें पता था कि बिजनेस का ये आइडिया भी काफी यूनिक है और लोगों को पसंद भी आएगा. लेकिन उनके लिए ये सफर आसान नहीं होने वाला था.

कई जगहों से मिले रिजेक्शन

दरअसल प्रतीक के मन में इस आइडिया को लेकर काफी कॉन्फिडेंस था। उन्होंने अपने घर जाकर यह आइडिया अपने परिवार को भी बताया लेकिन वहां से उन्हें अच्छा रिस्पॉन्स नहीं मिला। उनके परिवार ने उनसे कहा कि ”क्या तुमने छाते बेचने की पढ़ाई की है” लेकिन ऐसे में भी प्रतीक को जरा भी निराशा नहीं हुई और उन्होंने अपने बिजनेस के इस आइडिया पर काम करना शुरू कर दिया. कई दोस्तों ने उन्हें यह काम न करने की सलाह भी दी, लेकिन प्रतीक ने किसी की नहीं सुनी।

अब प्रतीक ने कई डिजाइनरों से अम्ब्रेला के डिजाइन भी तैयार करवा लिए थे और उन्हें पब्लिशर के पास ले जाना शुरू कर दिया था। लेकिन उन्हें कई जगह निराशा हाथ लगी। कोई भी प्रकाशक प्रतीक के विचार पर काम करने को तैयार नहीं था। सभी ने इन्हें छापने और बेचने से मना कर दिया था। प्रतीक लगातार प्रकाशकों के पास भी जा रहे थे लेकिन 11 जगहों पर उन्हें निराशा ही हाथ लगी।


कंपनी को दिन-रात मेहनत करके बनाया है

ऐसे में जब प्रतीक 12वें पब्लिशर के पास गया तो पब्लिशर को उसका आइडिया पसंद आया और दोनों ने मिलकर काम करना शुरू कर दिया. इसके बाद छतरियों पर स्लोगन, स्माइली और वडापाव जैसे कई डिजाइन छपवाए गए और मार्केटिंग का काम भी प्रतीक ने ही किया। प्रतीक ने कड़ी मेहनत के बाद 800 छाते बेचे थे। लेकिन अब वह ऑनलाइन मार्केटिंग की मदद से इस बिजनेस को आगे ले जाना चाहते थे।

इसके लिए प्रतीक ने खुद 18-18 घंटे अकेले काम किया है। मार्केटिंग और डिजाइनिंग जैसे सारे काम प्रतीक खुद करते थे। धीरे-धीरे ऑनलाइन यूजर्स प्रतीक के प्रोडक्ट्स को पसंद करने लगे और अब उनका बिजनेस भी रफ्तार पकड़ रहा था। इसे देखते हुए गुजरात, तमिलनाडु और कोलकाता जैसी जगहों पर भी उनके छत्र की मांग बढ़ गई थी।

महज 2 हफ्ते के अंदर ही उन्हें Amazon की बेस्ट सेलर लिस्ट में शामिल कर लिया गया। जो वास्तव में प्रतीक के लिए बहुत बड़ी बात थी। उन्होंने अपनी कंपनी का नाम रखा। आज भी यह कंपनी लगातार बढ़ रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here