एक जमाने में घर-घर जाकर कालीन बेचते थे, फिर मेहनत से करोड़ों का कारोबार करते थे

समय हमेशा एक जैसा नहीं रहता। व्यक्ति अपनी मेहनत से अपना समय बदल सकता है और सफलता भी प्राप्त कर सकता है। आज भी कई ऐसी कहानियां हैं जो सभी को बेहद प्रेरित करती हैं। ये किस्से ऐसे लोगों के बारे में बताए गए हैं जिन्होंने तमाम मुश्किलों के बावजूद कड़ी मेहनत से अपना नाम बनाया है। आज हम आपको एक ऐसे शख्स के बारे में भी बताने जा रहे हैं।

इस शख्स का नाम आसिफ रहमान है. आसिफ ने अपने करियर की शुरुआत बहुत ही कम उम्र में की थी। एक जमाने में आसिफ घर-घर जाकर कालीन बेचते थे। लेकिन आसिफ ने उस काम को कभी छोटा नहीं समझा और पूरी लगन से किया और आज उसी का नतीजा है कि आसिफ करोड़ों का कारोबार कर रहे हैं. आज आसिफ कई लोगों के लिए उनके प्रेरणास्रोत बने हैं और उनकी कहानी लोगों को आगे बढ़ने में मदद भी कर रही है.

पिता जूट मिल में करते थे काम

किसी ने सही कहा है कि हर चीज की शुरुआत छोटे से होती है। आमतौर पर बहुत से लोग ऐसे होते हैं जो काम को बहुत छोटा या बड़ा मानते हैं और इस वजह से वह कोई काम नहीं कर पाते हैं। लेकिन कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो छोटी सी शुरुआत करते हैं और लगन से मेहनत करके सफलता की ऊंचाइयों तक पहुंचते हैं। आज एक ऐसे शख्स की कहानी जिसने छोटी से शुरुआत की और आज करोड़ों का मालिक बन गया है।

यह शख्स कोई और नहीं बल्कि आसिफ रहमान है। आसिफ Insigne Carpets नाम की कंपनी के फाउंडर हैं। आसिफ कई मुश्किलों का सामना कर यहां तक ​​पहुंचे हैं। आसिफ का जन्म कोलकाता के एक साधारण परिवार में हुआ था। आसिफ के पिता एक जूट मिल में काम करते थे। उनके पिता अरबी भाषा भी अच्छी तरह जानते थे। वहीं आसिफ की मां हाउसवाइफ थीं।

आसिफ ने अपनी मां से संस्कृत भाषा सीखी। 1988 में आसिफ ने कोलकाता विश्वविद्यालय से स्नातक की पढ़ाई पूरी की और उसके बाद नौकरी की तलाश शुरू की। उस समय उन्हें नौकरी की बहुत जरूरत थी। लेकिन नौकरी मिलने में भी उन्हें काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा था।

घर-घर जाकर कालीन बेचें

कैनफोलियो से बातचीत के दौरान आसिफ ने बताया था कि उनके पिता मिल में काम करते थे और उस समय पढ़ाई के बाद भी बेरोजगार थे। आसिफ जब नौकरी की तलाश में थे तो उन्हें संयोग से नौकरी मिल गई। दरअसल, एक बार आसिफ कोलकाता के पार्क स्ट्रीट में एक कालीन की दुकान के पास खड़े थे और वहां सजे हुए कालीन को देख रहे थे. ऐसे में दुकानदार ने उसे देख लिया।

फिर उसने आसिफ को दुकान पर बुलाया और उससे बात की। कुछ जानकारी लेने के बाद दुकानदार ने आसिफ को सेल्समैन की नौकरी का ऑफर दिया। इसमें उन्हें घर-घर जाकर कालीन बेचने पड़ते थे। ऐसे में आसिफ को भी नौकरी की बहुत जरूरत थी तो उन्होंने तुरंत इस नौकरी के लिए हां कह दी। ऐसे में आसिफ अच्छी तरह से समझ गए थे कि अगर उन्हें जीवन में कुछ बड़ा करना है और सफलता हासिल करनी है तो उन्हें कड़ी मेहनत करनी होगी.

कुछ वर्षों के बाद अपनी खुद की कंपनी शुरू की

सेल्समैन के तौर पर आसिफ घर-घर जाकर कालीन बेचने लगे। इस दौरान भी उन्हें कई मुश्किलों का सामना करना पड़ा लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी। धीरे-धीरे जब वे इस कार्य में निपुण हो गए तो उन्हें भदोही के एक कालीन व्यवसायी के साथ कार्य करने का अवसर मिला। आसिफ ने यहां 2003 तक काम किया। 2003 के बाद आसिफ ने न्यूयॉर्क में एक कारपेट कंपनी में काम करना शुरू किया। इस कंपनी में उन्होंने लगभग 8 वर्षों तक काम किया और अनुभव प्राप्त किया।

इसके बाद ही आसिफ ने अपना खुद का बिजनेस शुरू करने का फैसला किया। तभी उन्होंने Insigne Carpets नाम से अपनी खुद की कंपनी शुरू की। शुरुआत में ही आसिफ को उनकी कंपनी से अच्छा रिस्पोंस मिला। उन्हें मुंबई के ताजमहल पैलेस होटल में कालीन डिजाइन करने का ठेका मिला था। हालांकि, इस होटल से काम मिलना वाकई मुश्किल है।

क्योंकि इस होटल के अपने मापदंड हैं। लेकिन आसिफ के काम की वजह से उन्हें ये ऑर्डर दिया गया था. तभी से आसिफ के काम में तेजी आने लगी। साथ ही आसिफ ने देश के कालीन कारीगरों को जोड़ने के कई प्रयास भी किए। आज यह कंपनी पूरी दुनिया में अपना नाम बना रही है। यह सब आसिफ की मेहनत और लगन का नतीजा है।

विदेश में व्यापार करना

आसिफ की कंपनी ने आज बाजार में एक अलग पहचान बनाई है। आज इस कंपनी के साथ 13 डिजाइनरों और 18 कार्यालयों की एक टीम भी काम कर रही है। वहीं, इस कंपनी की मैन्युफैक्चरिंग सुविधाएं भारत और चीन में भी उपलब्ध हैं। आज फाइव स्टार होटल, एयरपोर्ट और अमीर लोग भी इस कंपनी के ग्राहक बन गए हैं।

वहीं आसिफ की कंपनी अबू धाबी में भी काम कर रही है। Google और Louis Vuitton भी आसिफ के क्लाइंट्स में शामिल हैं। आज आसिफ कई लोगों के लिए मिसाल बन गए हैं। आसिफ ने छोटी शुरुआत की लेकिन आज वह सफलता की बुलंदियों को छू रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.