UPSC Success Story : पिता की सलाह सुनकर नौकरी से शुरू हुई थी तैयारी, आज लकी चौहान आईपीएस ऑफिसर हैं.

0
1

दोस्तों आज हम आपके साथ ऐसी Motivational UPSC Success Story शेयर कर रहे हैं, जिसे पढ़ने के बाद आपके अंदर एक अलग ही एनर्जी आ जाएगी। और आप अपने लक्ष्य के लिए जमकर तैयारी करेंगे। UPSC का पूरा नाम संघ लोक सेवा आयोग है। UPSC भारत में शीर्ष परीक्षा है। यहां सशस्त्र बलों के लिए भर्ती की जाती है। इस परीक्षा को पास करने के बाद उम्मीदवार डीएम, एसडीएम आदि जैसे बड़े पदों पर कार्यरत हैं।

आज हम यूपीएससी की तैयारी कर रहे हमारे सभी युवाओं के लिए बेहतरीन upsc प्रेरक कहानियां लेकर आए हैं, ताकि उन्हें हमेशा अपने लक्ष्य की ओर प्रेरित किया जा सके। तो आज हम आपको लकी के बारे में बताने जा रहे हैं।

लकी ने 12वीं की परीक्षा साइंस स्ट्रीम से पास की और उसके बाद ग्रेजुएशन में उन्होंने अंग्रेजी साहित्य और इतिहास विषय लिया।

IPS Success Story: UPSC को देश की सबसे कठिन परीक्षा माना जाता है। इसमें सफलता पाने के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ती है लेकिन जो इसमें सफल होते हैं वे लाखों युवाओं के लिए प्रेरणा बन जाते हैं। आईपीएस अधिकारी लकी चौहान की कहानी भी लाखों युवाओं के लिए प्रेरणा है। उन्होंने वर्ष 2012 में यूपीएससी परीक्षा पास की थी और अखिल भारतीय 246वीं रैंक हासिल की थी।

लकी का जन्म यूपी के बुलंदशहर के खुर्जा गांव में हुआ था। उनके पिता रोहताश सिंह चौहान एक प्रॉपर्टी डीलर हैं और उनकी मां सुमन लता चौहान एक शिक्षिका हैं। लकी के पिता बताते हैं कि वह बचपन से ही पढ़ाई में होशियार थी।

लकी के पिता ने उन्हें बचपन में ही कह दिया था कि उन्हें सिविल सर्विस में जाना चाहिए और लकी ने इसे ही अपना लक्ष्य बना लिया। उसके बाद से जब भी कोई उनसे पूछता था कि वह भविष्य में क्या बनना चाहती हैं तो वह कहती थीं कि मैं सिविल सर्विस में जाऊंगी।

लकी ने 12वीं की परीक्षा साइंस स्ट्रीम से पास की और उसके बाद ग्रेजुएशन में उन्होंने अंग्रेजी साहित्य और इतिहास विषय लिया। स्नातक की पढ़ाई पूरी करने के बाद, लकी ने सहायक कल्याण प्रशासक के रूप में काम करना शुरू किया। वह शुरू से ही आईपीएस अधिकारी बनना चाहती थी, इसलिए उसने यूपीएससी परीक्षा की तैयारी करने का फैसला किया।

लकी ने सरकारी नौकरी करने के साथ-साथ यूपीएससी की तैयारी भी शुरू कर दी और 3 साल की कड़ी मेहनत के बाद साल 2012 में उन्होंने 246वीं रैंक हासिल की। ​​लकी को प्रशिक्षण में उनके प्रदर्शन के आधार पर त्रिपुरा कैडर मिला। उसके बाद वह यहां कई अहम भूमिकाओं में रहीं। वर्तमान में वह त्रिपुरा के गोमती जिले के उदयपुर में एसपी हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here