चिड़ियों का आलीशान बंगला! रहने-खाने की पूरी व्यवस्था, गर्मी में एसी का मजा, बारिश में भी टेंशन नहीं

75 वर्षीय भगवानजी भाई को पक्षियों का बहुत शौक है। जब वह पक्षियों को भोजन देते थे और जब पक्षी अनाज खाकर उड़ जाते थे, तो उन्हें चिंता होती थी कि वह बारिश में कहाँ रहेंगे!

आप जो तस्वीर देख रहे हैं, उससे पहले तो अंदाजा लगाना मुश्किल है कि यह क्या है! आप देखेंगे तो आपको हजारों मिट्टी के बर्तन दिखाई देंगे, जो शिवलिंग के आकार या संरचना में व्यवस्थित हैं। तो क्या यह शिव मंदिर है? नहीं.. यह पक्षियों का आलीशान बंगला है। पक्षियों के ठहरने और खाने की पूरी व्यवस्था है। गर्मी हो या बारिश.. यहां पक्षियों को कोई दिक्कत नहीं होती है. लेकिन आखिर है कहां?


आप जो तस्वीर देख रहे हैं, उससे पहले तो अंदाजा लगाना मुश्किल है कि यह क्या है! आप देखेंगे तो आपको हजारों मिट्टी के बर्तन दिखाई देंगे, जो शिवलिंग के आकार या संरचना में व्यवस्थित हैं। तो क्या यह शिव मंदिर है? नहीं.. यह पक्षियों का आलीशान बंगला है। पक्षियों के ठहरने और खाने की पूरी व्यवस्था है। गर्मी हो या बारिश.. यहां पक्षियों को कोई दिक्कत नहीं होती है. लेकिन आखिर है कहां?


यह गुजरात के नवी सांकली गांव में हजारों चटियों से बने पक्षियों का घर है। इसे किसी इंजीनियर ने नहीं बल्कि चौथी क्लास पास किसान भगवानजी भाई ने बनाया था। द बेटर इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक 75 साल के भगवानजी भाई पक्षियों के बेहद शौकीन हैं। जब वह पक्षियों को भोजन देता था और जब पक्षी अनाज खाकर उड़ जाते थे, तो उन्हें चिंता होती थी कि वह बारिश में कहाँ रहेंगे!
यह गुजरात के नवी सांकली गांव में हजारों चटियों से बने पक्षियों का घर है। इसे किसी इंजीनियर ने नहीं बल्कि चौथी क्लास पास किसान भगवानजी भाई ने बनाया था। द बेटर इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक 75 साल के भगवानजी भाई पक्षियों के बेहद शौकीन हैं। जब वह पक्षियों को भोजन देता था और जब पक्षी अनाज खाकर उड़ जाते थे, तो उन्हें चिंता होती थी कि वह बारिश में कहाँ रहेंगे!

इसके बाद कड़ी मेहनत और खर्चे की परवाह किए बिना उन्होंने 140 फीट लंबा और 40 फीट ऊंचा एक पक्षी घर बनाया। इसमें करीब 2500 छोटे बड़े बर्तनों का इस्तेमाल किया गया है. उनके द्वारा बनाया गया यह खूबसूरत चिड़िया घर उनके छोटे से गांव की पहचान बन गया है। गर्मी के मौसम में यहां पक्षी ठंडे हो जाते हैं, वहीं बारिश में भीगने की चिंता नहीं होती है।
इसके बाद कड़ी मेहनत और खर्चे की परवाह किए बिना उन्होंने 140 फीट लंबा और 40 फीट ऊंचा एक पक्षी घर बनाया। इसमें करीब 2500 छोटे बड़े बर्तनों का इस्तेमाल किया गया है. उनके द्वारा बनाया गया यह खूबसूरत चिड़िया घर उनके छोटे से गांव की पहचान बन गया है। गर्मी के मौसम में यहां पक्षी ठंडे हो जाते हैं, वहीं बारिश में भीगने की चिंता नहीं होती है।

इसे तैयार करने में एक साल का समय लगा और 20 लाख रुपए खर्च किए गए। वे भगवान का शुक्रिया अदा करते हैं कि वे आर्थिक रूप से सक्षम हैं। 75 साल की उम्र हो जाती है, लेकिन भगवानजी भाई अपने 100 एकड़ खेत की देखभाल करते हैं। उनके दो बेटे हैं, जो एक एग्रो कंपनी चलाते हैं।
इसे तैयार करने में एक साल का समय लगा और 20 लाख रुपए खर्च किए गए। वे भगवान का शुक्रिया अदा करते हैं कि वे आर्थिक रूप से सक्षम हैं। 75 साल की उम्र हो जाती है, लेकिन भगवानजी भाई अपने 100 एकड़ खेत की देखभाल करते हैं। उनके दो बेटे हैं, जो एक एग्रो कंपनी चलाते हैं।

इस पक्षी घर में कबूतर और तोते समेत कई तरह के पक्षी रहते हैं। यह पक्षी घर शिवलिंग के आकार का है। इससे पहले भगवानजी भाई ने गांव में एक शिव मंदिर भी बनवाया है। भगवानजी भाई द्वारा बनाए गए चिड़िया घर को देखने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं।
इस पक्षी घर में कबूतर और तोते समेत कई तरह के पक्षी रहते हैं। यह पक्षी घर शिवलिंग के आकार का है। इससे पहले भगवानजी भाई ने गांव में एक शिव मंदिर भी बनवाया है। भगवानजी भाई द्वारा बनाए गए चिड़िया घर को देखने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *