तोशु और वनराज के बुरे दिन शुरू, क्या मालविका निकाल देंगी कंपनी से

0
1

आपने अब तक देखा है कि अनुपमा और अनुज के रिश्ते को लेकर वनराज कैसे असुरक्षित है। वह बार-बार दोनों को अलग करने की कोशिश कर रहा है। आने वाले एपिसोड में, वनराज को दोषी ठहराया जा रहा है और मालविका ही उसके ठिकाने का निर्धारण करने वाली होगी।

आज के एपिसोड में आप देखेंगे कि अनुज और वनराज कॉन्ट्रैक्ट को लेकर आपस में लड़ते नजर आएंगे। बापूजी वनराज को शांत करवा देंगे, लेकिन बा हमेशा वनराज का साथ देंगे और अनुपमा को वनराज का दुश्मन कहेंगे। अनुपमा घर छोड़ने की धमकी देगी। वनराज कहेगा कि उसने अनुपमा को घर में रोक लिया है और दोनों उसका बदला ले रहे हैं। वनराज कहेंगे कि शिवरात्रि की पूजा उनके लिए बहुत खास है, लेकिन दोनों ने जानबूझकर पहले किए गए अनुबंध का परिणाम प्राप्त किया ताकि उनका दिन खराब हो जाए।


वनराज को धमकी देगी अनुपमा
अनुपमा वनराज को बताएगी कि उसकी उड़ान अब लंबी नहीं है क्योंकि अनुज ने अब उड़ान भरी है। बा कहेगी कि अनुज को अपने घर जाकर जश्न मनाना चाहिए, यहीं रहो और वनराज का मूड मत खराब करो। इस पर अनुपमा कहेगी कि वनराज ने उसकी जिंदगी खराब कर दी। इसके जवाब में बा भी कहेंगे कि अनुपमा हंसते हुए खेल रही हैं, वनराज ने उनकी जिंदगी कहां बर्बाद कर दी। अनुपमा कहेगी कि वनराज अभी जो कुछ भी भुगत रहे हैं, वह उन्हीं के कर्मों का फल है।

तोशू देगा मां को दोष
अनुपमा और अनुज एक साथ शिवरात्रि की पूजा करेंगे और सब देख रहे होंगे। बा अनुज को जाने के लिए कहेगा और अनुज अनुपमा को लिए बिना वहां से निकल जाएगा और किंजल को जाते समय ध्यान रखने के लिए कहेगा। अनुज के जाते ही तोशु भी शुरू हो जाएगा और समर को अपने भाई से लड़ना होगा। तोशु कहेगा कि अनुपमा का दोष यह है कि मां होते हुए भी उसने अपने बेटे के बारे में नहीं सोचा, अपने करियर के बारे में नहीं सोचा। अनुपमा ने केवल अपने अनुज के बारे में सोचा। समर तोशु को कृतज्ञ कहेगा, बदले में तोशु कहेगा कि उसकी माँ ने वही किया जो हर माता-पिता करते हैं।

तोशू बच्चे को कहेगा बोझ

तोशू कहेगा कि जब वह अपने पिता के जीवन में आया था, तो वह पदोन्नति लाया था, लेकिन अपने बच्चे के जन्म से पहले, वह अपने पिता की बर्बादी लाया था। समर तोशू से कहेगा कि किसी और पर दोष मढ़ने से अच्छा होगा कि वह कुछ काम करे और अपने पैरों पर खड़ा हो जाए। तोशु क्रोधित हो जाएगा और कहेगा कि उसकी माँ का स्वभाव और पैदा होने वाले बच्चों का भाग्य एक ही है और वह बुरा है। तोशु कहेगा कि यह बच्चा बोझ नहीं है।

तोशु के मुंह से बच्चे के पैदा होने की ऐसी बातें सुनकर अनुपमा उसे जोर-जोर से डांटेगी और वनराज भी तोशु को समझाने की कोशिश करेगा। तोशू अपनी हदों को पार कर अपने होने वाले बच्चे को मनहूस कहेगा। इस पर वनराज उसे एक थप्पड़ ही रसीद देगा और धमकी देगा कि अगर वह इस बच्चे के बारे में कुछ भी बोलेगा तो वह भूल जाएगा कि वह उसका बेटा है। दूसरी ओर समर कहेगा कि वह उस बच्चे के लिए सब कुछ करेगा। उसे हर खुशी देने के लिए 24 घंटे काम करेंगे।

अनुपमा कहेगी कि तोशु को ऐसी बातें नहीं करनी चाहिए। वह और किंजल मिलकर बच्चे की जिम्मेदारी संभालेंगे। तोशू कहेगा कि जब उसका बच्चा बड़ा हो जाएगा और किंजल ऑफिस जाएगी तो उसकी देखभाल करने वाला कोई नहीं होगा। इस पर अनुपमा कहेगी कि उनकी दादी अभी जिंदा हैं। अनुपमा कहेगी कि ऐसी बातें करके वह अपने पिता का अपमान कर रहा है। अनुपमा की बात सुनकर तोशु चला जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here