बृहस्पति के अस्त होने से बढ़ेगी चुनौतियां, जानिए सभी राशियों पर इसका क्या प्रभाव पड़ेगा?

देवगुरु बृहस्पति, कुंभ राशि की यात्रा करते हुए, 26 फरवरी को सुबह 8:50 बजे पश्चिम में अस्त हो रहे हैं, और शाम 6.34 बजे फिर से उदय होंगे। 26 मार्च को। अस्त होने का अर्थ है कि कोई भी ग्रह बुझ जाता है या नीच हो जाता है। यानी जातकों पर इसके प्रभाव को कम करने के लिए। इनका सीधा असर पृथ्वी के लोगों पर पड़ता है, खासकर धनु और मीन राशि के जातकों के लिए यह अच्छी खबर नहीं है। धनु राशि के स्वामी बृहस्पति को मकर राशि में नीच का और कर्क राशि में उच्च का माना जाता है। उनकी सेटिंग का सभी राशियों पर क्या प्रभाव पड़ेगा इसका ज्योतिषीय विश्लेषण।

मेष राशि

राशि से लाभ भाव में गोचर के दौरान गुरु के अस्त होने से आय के साधन प्रभावित होंगे। इस दौरान किसी को भी कोई अतिरिक्त पैसा उधार न दें। हालांकि सूर्य के साथ रहने के कारण दिया गया धन भी वापस मिलने की उम्मीद है। कोर्ट-कचहरी के मामलों में भी फैसला आपके पक्ष में आने के संकेत हैं। प्रतियोगिता में भाग लेने वाले छात्रों और छात्रों को परीक्षा में अच्छे अंक लाने के लिए कड़ी मेहनत करनी होगी।

वृषभ

राशि से दशम भाव में स्थित गुरु के प्रभाव से कार्य में शिथिलता आएगी। धर्म और अध्यात्म में भी रुचि कम होगी। माता-पिता के स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहें। यदि आप अपनी योजनाओं को गोपनीय रखते हुए कार्य करेंगे तो आपको अधिक सफलता मिलेगी। कार्यक्षेत्र में उच्चाधिकारियों से संबंध खराब न होने दें। केंद्र या राज्य सरकार के विभागों में प्रतीक्षित कार्यों को पूरा करने में अभी और समय लगेगा.

मिथुन राशि

राशि से नवम भाग्य में विराजमान गुरु के प्रभाव से धर्म और अध्यात्म में रुचि बढ़ेगी, इसे अपने ऊपर हावी न होने दें। तेज गति वाले काम भी धीमे रहेंगे। परिवार के वरिष्ठ सदस्यों और भाइयों का सहयोग मिलेगा। लिए गए निर्णय और किए गए कार्यों की सराहना की जाएगी। विदेशी कंपनियों में सेवा या वीजा-नागरिकता के लिए किए गए प्रयास सफल होंगे लेकिन थोड़ा और समय लगेगा।

कर्क

राशि से अष्टम भाव में बृहस्पति का प्रभाव होने से इनसे जुड़े अशुभ प्रभाव कम होंगे। लंबे समय से प्रतीक्षित काम पूरा होगा। नौकरी में पदोन्नति और मान-सम्मान के योग में वृद्धि। कार्यक्षेत्र में साजिश का शिकार होने से बचें। बेहतर होगा कि काम पूरा कर सीधे घर आ जाएं। स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहें, अचानक धन प्राप्ति का योग, दिया हुआ धन भी वापस मिलने की संभावना है।

सिंह राशि

राशि से सप्तम भाव में गुरु के प्रभाव के कारण दाम्पत्य जीवन में थोड़ी कड़वाहट आ सकती है। विवाह से जुड़े मामलों में कुछ विलंब होगा। इस दौरान सामान्य व्यापार करने से बचें। स्वास्थ्य उत्तम रहेगा। मान-प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। यदि आप केंद्र या राज्य सरकार में किसी भी प्रकार के सरकारी टेंडर के लिए आवेदन करना चाहते हैं तो देर न करें, सफलता मिलेगी।

कन्या राशि

छठे ऋण-रोग और राशि से गुरु का शत्रु भाव में गोचर आपके लिए अच्छा कहा जाएगा। गुप्त शत्रु कम होंगे। कोर्ट-कचहरी के मामले सुलझेंगे। जो लोग अपमानित करने की कोशिश कर रहे थे वे मदद के लिए आगे आएंगे। अपनी ऊर्जा का अधिकतम लाभ उठाएं और आगे बढ़ें। भागदौड़ की अधिकता रहेगी। किसी रिश्तेदार या मित्र से अप्रिय समाचार मिलने की संभावना है। यात्रा से देश को लाभ होगा।

तुला

राशि से पंचम भाव में बृहस्पति के प्रभाव के कारण प्रतियोगिता में भाग लेने वाले छात्रों और छात्रों के लिए कठिन चुनौतियाँ उत्पन्न हो सकती हैं, इसलिए परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त करने के लिए अधिक प्रयास करने होंगे। प्रेम संबंधित मामलों में उदासीनता रहेगी। संतान से संबंधित चिंता परेशान कर सकती है लेकिन नवविवाहित जोड़े के लिए संतान के जन्म और जन्म के योग हैं। परिवार के वरिष्ठ सदस्यों और बड़े भाइयों से भी सहयोग मिलने की संभावना है।

वृश्चिक

राशि से चतुर्थ सुख में अस्त हो चुके बृहस्पति का प्रभाव सामान्य रहेगा, किसी न किसी कारण से पारिवारिक कलह और मानसिक अशांति बढ़ सकती है। मित्रों और रिश्तेदारों के साथ विवादों को बढ़ने न दें। संपत्ति से जुड़े मामले सुलझेंगे। यदि आप घर या वाहन खरीदने का प्रयास कर रहे हैं तो अवसर अनुकूल है। माता-पिता के स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहें। सरकारी सेवा के लिए आवेदन करना सार्थक रहेगा।

धनुराशि

गुरु का राशि से तीसरे भाव में गोचर अधिक हानिकारक नहीं रहेगा। अपने सौम्य स्वभाव, ऊर्जा शक्ति और त्वरित निर्णय लेने की क्षमता के कारण आप कठिन परिस्थितियों से आसानी से पार पा लेंगे। धर्म और अध्यात्म में अपनी रुचि कम न होने दें। विदेशी कंपनियों में सेवा या नागरिकता के लिए किए जा रहे प्रयास सफल होने में कुछ और समय लगेगा।

मकर राशि

राशि से दूसरे धन भाव में बृहस्पति के अशुभ प्रभाव के कारण आपको आर्थिक कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है। अपने भाषण कौशल की मदद से आप कठिन परिस्थितियों को आसानी से संभालने में सक्षम होंगे। स्वास्थ्य विशेषकर पेट और आंखों से संबंधित विकारों से बचें। जब तक आप कोई कार्य पूर्ण न करें, उसे सार्वजनिक न करें, यदि आप किसी भी प्रकार के सरकारी विभाग में निविदा आदि के लिए आवेदन करना चाहते हैं तो उस दृष्टि से भी अवसर अनुकूल रहेगा।

कुंभ राशि

आपकी राशि में गुरु के गोचर का प्रभाव बहुत ही मिलाजुला रहेगा। कार्यक्षेत्र में कुछ रुकावटें आएंगी, लेकिन अंतत: आप सफल होंगे। संतान से जुड़ी चिंता आपको परेशान कर सकती है, लेकिन इसे ग्रह योग के रूप में विकसित न होने दें। जल्द ही सुधार होगा। प्रतियोगिता में भाग लेने वाले विद्यार्थियों और विद्यार्थियों को पढ़ाई में अधिक मेहनत करनी पड़ेगी। यदि आप किसी भी प्रकार की सरकारी नौकरी के लिए आवेदन करना चाहते हैं तो उस दृष्टि से भी ग्रह गोचर अनुकूल रहेगा।

मीन राशि

आपकी राशि के स्वामी बृहस्पति की हानि भले ही अच्छी न कही जाए, लेकिन इस समय वह आपके गोचर भाव में गोचर कर रहे थे, ऐसे में आपके लिए एक अच्छी खबर है। धर्म और अध्यात्म में रुचि बढ़ेगी। लिए गए फैसलों की समाज में सराहना होगी। सामाजिक प्रतिष्ठा में भी वृद्धि होगी। जो लोग अपमानित करने की कोशिश कर रहे थे वे मदद के लिए आगे आएंगे। यात्रा से देश को लाभ होगा। धार्मिक कार्यों पर खूब खर्च करेंगे

Leave a Reply

Your email address will not be published.