एक छोटी सी गलती से यूपीएससी की उम्मीदवारी रद्द, लेकिन हार नहीं मानी और अगले साल बन गए आईएएस – जानिए अनुज प्रताप की कहानी

अनुज प्रताप सिंह की एक छोटी सी गलती ने न केवल उनका एक साल बर्बाद कर दिया बल्कि उन्हें मानसिक समस्याओं का भी सामना करना पड़ा। फिर भी हार न मानते हुए अनुज ने तैयारी की और 2018 में यूपीएससी परीक्षा पास कर आईएएस बनने का सपना पूरा किया।

अक्सर आपने यूपीएससी के उम्मीदवारों की तैयारी के दौरान होने वाली असफलताओं और कठिनाइयों की कहानियां सुनी होंगी। लेकिन क्या आपने कभी सुना है कि यूपीएससी ने इंटरव्यू से 10 दिन पहले किसी उम्मीदवार का आवेदन खारिज कर दिया है। ऐसा ही हुआ झांसी निवासी अनुज प्रताप सिंह के साथ। अनुज का आवेदन साक्षात्कार से 10 दिन पहले उनके आवेदन पत्र में गलत जन्मतिथि के कारण खारिज कर दिया गया था। इसके बाद उन्होंने यूपीएससी के इस फैसले के खिलाफ हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में केस दायर किया. हालांकि, उन्होंने आईएएस बनने के अपने सपने को जिंदा रखा और तमाम परेशानियों के बीच भी खुद को तैयार करते रहे। आइए जानते हैं अनुज प्रताप सिंह के संघर्ष और सफलता की कहानी के बारे में:

2016 में शुरू हुई थी यूपीएससी की तैयारी

अनुज ने 2016 में अपना पहला प्रयास दिया जिसमें वे साक्षात्कार के चरण में पहुंचे लेकिन चयन सूची में अपनी जगह नहीं बना सके। इसके बाद 2017 में उन्होंने फिर से कोशिश की और एक बार फिर प्रीलिम्स और मेंस परीक्षा पास की। अभी अनुज इंटरव्यू की तैयारी कर रहे थे कि इंटरव्यू के ठीक 10 दिन पहले उन्हें यूपीएससी की ओर से एक पत्र मिला, जिसमें लिखा था कि उनकी उम्मीदवारी रद्द कर दी गई है। पत्र के अनुसार अनुज ने डीएएफ भरते समय 30 मार्च 1991 के बजाय 31 मार्च 1991 को अपनी जन्मतिथि भरी थी। इस वजह से उन्हें परीक्षा से निष्कासित कर दिया गया था।

यूपीएससी के फैसले के खिलाफ कोर्ट में अपील
अनुज ने यूपीएससी के फैसले के खिलाफ सेंट्रल एडमिनिस्ट्रेशन ट्रिब्यूनल (कैट) में अपील दायर की थी। कैट ने एक अंतरिम आदेश जारी किया जिसमें उन्हें साक्षात्कार के लिए उपस्थित होने की अनुमति दी गई, लेकिन अंतिम सूची में उनका नाम आने के बावजूद उनका परिणाम रोक दिया गया। अनुज का कहना है कि वह समय उनके लिए सबसे तनावपूर्ण था क्योंकि आईएएस बनने के बावजूद वे सेवा में शामिल नहीं हो सके। लेकिन अनुज ने हार नहीं मानी और इस नतीजे के खिलाफ कोर्ट में केस कर दिया. साथ ही, एक और साल बर्बाद किए बिना, 2018 परीक्षा की तैयारी करते रहें।

कोर्ट केस के साथ-साथ परीक्षा की तैयारी
अनुज की अर्जी हाई कोर्ट ने खारिज कर दी थी, लेकिन फिर भी उन्होंने निराश नहीं किया और सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल की। अनुज कहते हैं कि निराशा में बैठने का विकल्प उनके दिमाग में कभी नहीं आया। उसके मन में एक स्पष्ट लक्ष्य था और वह उसके लिए हर संभव प्रयास करना चाहता था। उन्होंने कोर्ट केस के साथ-साथ अगले साल की परीक्षा के लिए भी अध्ययन करना जारी रखा और इस बार प्रीलिम्स और मेन्स परीक्षा भी पास की।

तीसरे प्रयास में बनें आईएएस

अपने इस चरण के बारे में अनुज कहते हैं कि अब मुझे यह पता होना शुरू हो गया है कि चिंता क्या है, तनाव क्या है, जो तैयारी के दौरान कभी नहीं हुआ। तमाम मुश्किलों का सामना करते हुए अनुज आगे बढ़ते रहे। इसी बीच सुप्रीम कोर्ट का फैसला आ गया और वहां भी अनुज की अपील खारिज हो गई। अब अनुज के पास एक ही विकल्प था और वह अपने लक्ष्य के लिए मेहनत करते रहे। 2018 में उनकी मेहनत रंग लाई और अनुज ने परीक्षा पास कर ली।

उम्मीदवारों को अनुज की सलाह
अनुज अपनी गलती से सबक लेते हुए कहते हैं कि आपकी एक छोटी सी गलती आपकी जिंदगी बदल सकती है। लेकिन हर स्थिति में धैर्य के साथ आगे बढ़ते रहने में ही समझदारी है। वे कहते हैं कि जीवन में अवसर और कठिनाइयाँ एक साथ आती हैं, आपको तय करना है कि उन्हें कैसे संभालना है। अपने परिवार को हमेशा अपने साथ ले जाएं क्योंकि जीवन में उनका सहयोग बहुत जरूरी है। साथ ही उनका कहना है कि मेहनत का कोई विकल्प नहीं है। अगर आप मेहनत कर रहे हैं तो देर हो जाएगी लेकिन सफलता जरूर मिलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.