कमाल का 8 साल का बच्चा, कम उम्र में बने 8 वर्ल्ड रिकॉर्ड, लंदन की संसद भी करेगी सम्मानित

भारत के बच्चों के पास वास्तव में कोई जवाब नहीं है। भारत के छोटे बच्चों ने अपने हुनर ​​से साबित कर दिया है कि मेहनत से किसी भी उम्र में सफलता हासिल की जा सकती है। आज भी देश के कई बच्चों ने भारत को विश्व स्तर पर एक अलग पहचान दिलाई है। आज हम आपको एक ऐसे 8 साल के बच्चे के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसके बारे में जानकर आप भी हैरान रह जाएंगे।

इस बच्चे का नाम मार्टिन मलिक है। आज 8 साल की उम्र में मार्टिन ने वो मुकाम हासिल कर लिया है, जिसे लोग लंबे समय के बाद भी हासिल नहीं कर पा रहे हैं। आज इस बच्चे ने 8 वर्ल्ड रिकॉर्ड के साथ ही और भी कई रिकॉर्ड अपने नाम कर लिए हैं. मार्टिन के जुनून और प्रतिभा को देखते हुए अब उन्हें लंदन की संसद में सम्मानित किया जाएगा। मार्टिन के कौशल से हर कोई प्रभावित है

हरियाणा के निवासी

8 साल की उम्र में ज्यादातर बच्चे पढ़ाई, लिखने या खेलने पर ज्यादा ध्यान देते हैं। लेकिन कई ऐसे बच्चे भी हैं जो इस छोटी सी उम्र में ही देश-विदेश में अपनी पहचान बना लेते हैं। इन्हीं में से एक हैं मार्टिन मलिक, जो 8 साल की उम्र में कई लोगों के लिए प्रेरणा बन गए हैं। इस बच्चे ने बहुत कम उम्र में ही सफलता हासिल कर ली है। मार्टिन हरियाणा के सोनीपत के एक छोटे से गांव के रहने वाले हैं।

मार्टिन तीसरी कक्षा का छात्र है लेकिन अब तक वह 8 विश्व रिकॉर्ड अपने नाम कर चुका है। इतना ही नहीं, विश्व रिकॉर्ड के साथ-साथ मार्टिन के नाम 2 एशिया रिकॉर्ड और 2 भारत रिकॉर्ड भी हैं। इतनी कम उम्र में इस मुकाम तक पहुंचना वाकई मुश्किल है। इस यात्रा में मार्टिन के माता-पिता ने भी उनका साथ दिया। आज उनके माता-पिता को भी अपने बेटे पर गर्व है।

एक ही दिन में बने 6 रिकॉर्ड

मार्टिन को किक बॉक्सिंग का बहुत शौक है। उन्होंने किक बॉक्सिंग के क्षेत्र में भी अपना रिकॉर्ड बनाया है। लेकिन इतनी कम उम्र में आपके नाम इतने कठिन रिकॉर्ड बनाना वाकई काबिले तारीफ है. देश में महामारी की दस्तक के बाद से हर कोई अपने घरों में बंद था. ऐसे में मार्टिन भी घर में ही रहता था। तब उनके पिता संजय मलिक ने उनका मार्गदर्शन किया और उन्हें किक बॉक्सिंग में चैंपियन बनाया।

मार्टिन ने 3 मिनट में पंचिंग बैग पर 1700 फाइव मारकर वर्ल्ड रिकॉर्ड भी बनाया। इतना ही नहीं एक बार मार्टिन ने एक दिन में 6 वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाए थे। इसके अलावा उन्होंने किक बॉक्सिंग में और भी कई रिकॉर्ड अपने नाम किए। जिसके लिए अब उन्हें लंदन की संसद में भी सम्मानित किया जाएगा।

नीरज चोपड़ा ने भी मार्टिन को डिनर पर आमंत्रित किया

दरअसल, किकबॉक्सिंग में एक पंचिंग बैग पर 3 मिनट में 918 पंच मारने का रिकॉर्ड रूस के पावेल के नाम था, लेकिन पिछले साल के अंत में मार्टिन ने 3 मिनट में 1019 फाइव मारकर यह रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया। ऐसे में पूरे भारत को भी मार्टिन पर गर्व था।

मार्टिन की प्रतिभा से प्रभावित होकर ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीतने वाले नीरज चोपड़ा ने भी मार्टिन को डिनर पर आमंत्रित किया। इस दौरान नीरज चोपड़ा ने मार्टिन के साथ पंच की प्रैक्टिस भी की। साथ ही उन्होंने मार्टिन को हमेशा अपने साथ रहने का आश्वासन भी दिया।

देश के लिए गोल्ड मेडल लाना चाहते हैं मार्टिन

मार्टिन ने मीडिया से बातचीत के दौरान बताया कि जब एक वजह से महामारी बंद हुई तो उनके पिता ने फिटनेस ट्रेनिंग देना शुरू किया और इसके बाद मार्टिन की किकबॉक्सिंग में दिलचस्पी भी बढ़ गई. इसके लिए उन्होंने कड़ी मेहनत भी शुरू कर दी है। कई रिकॉर्ड तोड़ने के बाद नीरज चोपड़ा ने उन्हें रात के खाने पर भी आमंत्रित किया, जिसके बाद मार्टिन को भी यह बहुत पसंद आया। लेकिन नीरज चोपड़ा से मिलने के बाद देश के लिए गोल्ड मेडल लाना मार्टिन का सपना बन गया है. जिसे पूरा करने के लिए वे जी-तोड़ मेहनत कर रहे हैं।

परिवार राज्य सरकार से नाराज

दरअसल, मार्टिन ने बहुत ही कम उम्र में अपने हुनर ​​से देश का नाम ऊंचा किया है। ऐसे में विदेशों से भी उन्हें सम्मानित किया जा रहा है. लेकिन मार्टिन के परिवार के मुताबिक राज्य सरकार मार्टिन पर ध्यान नहीं दे रही है. संजय के मुताबिक राज्य सरकार को मार्टिन पर ध्यान देना चाहिए ताकि उनका हौसला बढ़े और उनकी प्रतिभा को निखारा जा सके.

हालांकि, मार्टिन का नाम गोल्डन बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में दर्ज होने के बाद, हरियाणा के सीएम मनोहरलाल खट्टर ने भी मार्टिन की उपलब्धि के बारे में ट्वीट किया। जिसमें उन्होंने लिखा है कि

“सोनीपत के मार्टिन मलिक को सात साल की छोटी सी उम्र में एक मिनट में 571 मुक्के मारकर ‘गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड’ में दर्ज होने के लिए बधाई और आशीर्वाद। हरियाणा के बच्चों की रगों में खेल और वीरता अंकित है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.