एक छोटे से गांव की लड़की जो महिला किसानों को आत्मनिर्भर बना रही है, खाद्य प्रसंस्करण के क्षेत्र में बढ़ावा दे रही है

आज भी कई महिलाएं हैं जो खुद से आत्मनिर्भर बनना चाहती हैं लेकिन उन्हें सही सलाह देने वाला कोई नहीं है। वहीं कुछ महिला किसान ऐसी भी हैं जो खेती तो कर रही हैं लेकिन उन्हें अपनी फसल का अच्छा दाम नहीं मिल रहा है। ऐसे में कई किसानों को मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। लेकिन आज हम आपको एक ऐसी लड़की के बारे में बताने जा रहे हैं जो अपने प्रयासों से महिला किसानों को आत्मनिर्भर बनाने की कोशिश कर रही है।


इस बच्ची का नाम निधि हरीश पंत है। निधि आज कई महिला किसानों के जीवन में बदलाव लाने की कोशिश कर रही हैं। निधि खाद्य प्रसंस्करण के क्षेत्र में महिला किसानों को सशक्त बना रही है। आज हर कोई निधि के प्रयासों की तारीफ कर रहा है. इसने कई महिला किसानों के जीवन को भी बदल दिया है। आइए जानते हैं इस खबर को विस्तार से।

एक वैज्ञानिक के रूप में देश की सेवा कर रहे पिता

आज कई महिलाएं खुद को सशक्त बनाने में लगी हुई हैं। पहले महिलाएं कृषि के क्षेत्र में कम ही नजर आती थीं लेकिन अब महिलाएं भी इस क्षेत्र में अपनी पहचान बना रही हैं। लेकिन कुछ महिला किसानों को उनकी मेहनत के अनुसार फल नहीं मिल पाता है। ऐसे में कुछ युवा अपने स्तर पर महिला किसानों के जीवन में बदलाव लाने का प्रयास कर रहे हैं. इन्हीं में से एक हैं निधि हरीश पंत, जिन्हें आज महिला किसानों का मसीहा कहना गलत नहीं होगा.निधि उत्तराखंड के टिहरी गढ़वाल के एक छोटे से गांव स्यानारी की रहने वाली हैं. निधि एक केमिकल इंजीनियर हैं और महिला किसानों के जीवन में सकारात्मक बदलाव लाने का प्रयास कर रही हैं। निधि के पिता हरीश पंत भी पहले खेती करते थे। लेकिन अब उनके पिता भाभा में एक परमाणु वैज्ञानिक के रूप में एक वैज्ञानिक के रूप में कार्यरत हैं। निधि के पिता ने हमेशा उनकी बेटी का पूरा साथ दिया।

ग्रामीणों की नाराजगी का सामना करना पड़ा

बेशक निधि उत्तराखंड की रहने वाली हैं लेकिन उनका महाराष्ट्र से भी गहरा नाता है। दरअसल, निधि के पिता एक साइंटिस्ट की नौकरी के चलते मुंबई, महाराष्ट्र में रहने आ गए थे। हरीश के साथ उनका परिवार भी यहां रहने आया था। ऐसे में निधि ने मुंबई से ही स्कूल और कॉलेज की पढ़ाई पूरी की. यहीं से उन्होंने इंजीनियरिंग की डिग्री भी हासिल की।वहीं निधि को कई बार अपने गांव के लोगों की नाराजगी का भी सामना करना पड़ा था. क्योंकि निधि के गांव वालों ने उसकी पढ़ाई और रहन-सहन पर ऊंगली उठानी शुरू कर दी थी तो कई लोगों ने इसके लिए निधि के पिता को ताना भी मारा. वहीं कई लोगों ने उनके पिता को उनसे कम उम्र में शादी करने की सलाह भी दी, लेकिन हरीश ने उनकी किसी बात पर ध्यान नहीं दिया और बेटी के सपनों को पूरा करने में उनका साथ दिया.

खाद्य प्रसंस्करण के माध्यम से महिलाएं कर रही हैं किसानों को आत्मनिर्भर

अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद निधि ने कृषि के क्षेत्र में कुछ करने का फैसला किया क्योंकि वह जानती हैं कि महिला किसानों को सशक्त बनाना बहुत जरूरी है। ऐसे में 2013 में अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद निधि ने अपने दोस्तों के साथ मिलकर “साइंस फॉर सोसाइटी” की शुरुआत की। इस कंपनी का उद्देश्य महिला किसानों को सशक्त बनाना है।

इस कंपनी के माध्यम से महिला किसानों को खाद्य प्रसंस्करण के क्षेत्र में बढ़ावा दिया जाता है। यह कंपनी महिला किसानों को खाद्य प्रसंस्करण करके अधिक आय अर्जित करने में भी मदद करती है। महिला किसानों को भी इसका भरपूर लाभ मिल रहा है और उनके जीवन में भी सकारात्मक बदलाव आ रहे हैं।

वर्तमान में 3 राज्यों में कर रहा यह सराहनीय कार्य

बता दें कि निधि द्वारा शुरू की गई कंपनी फिलहाल सिर्फ 3 राज्यों में काम कर रही है। इन राज्यों में उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र और ओडिशा राज्यों को शामिल किया गया है। इतना ही नहीं, आपको जानकर हैरानी होगी कि आज निधि ने इस कंपनी के जरिए 500 से ज्यादा महिला किसानों को सशक्त बनाया है. आज 800 से ज्यादा निजी और सरकारी कंपनियां भी इस काम से जुड़ी हैं मीडिया से बातचीत के दौरान निधि ने बताया कि फिलहाल वह सिर्फ 5 तरह की सब्जियों पर काम कर रही हैं. जिसमें अदरक, लहसुन, प्याज, मक्का और टमाटर शामिल हैं। हालांकि, अब वह इस लिस्ट में अन्य सब्जियों को भी शामिल करने पर काम कर रही हैं। आज हर कोई निधि के इस सराहनीय प्रयास की तारीफ कर रहा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.