परंपरागत खेती छोड़कर स्ट्रॉबेरी की खेती शुरू, पहले साल में ही हुआ 9 लाख का मुनाफा, जानिए पूरी कहानी

भोपाल निवासी सूदन सिंह कुशवाहा अपनी परंपरागत खेती को छोड़कर दो साल से स्ट्रॉबेरी की खेती कर रहे हैं। उन्होंने 3 एकड़ में 70 हजार से ज्यादा स्ट्रॉबेरी के पौधे लगाए हैं। पिछले साल 9 लाख का मुनाफा हुआ था। इस साल डबल प्रॉफिट की उम्मीद है। 40 वर्षीय सूडानी किसान परिवार से ताल्लुक रखते हैं। 10वीं के बाद उन्होंने पढ़ाई छोड़ दी और खेती करने लगे। वे पारंपरिक खेती करते थे लेकिन अच्छी आमदनी नहीं करते थे। कभी-कभी मौसम के कारण फसल नहीं हो पाती थी। ऐसे में परिवार का खर्चा चलाना मुश्किल हो रहा था।


2 साल पहले सूडान ने बाजार में स्ट्रॉबेरी की कीमत और मांग देखी, उसे यह विचार आया। इसके बाद उन्होंने स्ट्रॉबेरी की खेती की जानकारी ली तो कुछ किसानों ने इसकी प्रक्रिया को समझा. इसके बाद 2020 में पुणे से 2.4 लाख में 24 हजार स्ट्रॉबेरी के पौधे मंगवाए गए। फिर मल्चिंग और खेत की तैयारी पर पैसा खर्च किया जाता था। कुल मिलाकर पहली बार करीब साढ़े चार लाख में एक एकड़ जमीन से स्ट्रॉबेरी की खेती शुरू की गई। पहले साल में करीब 9 लाख की आमदनी हुई। हालांकि बाद में कोविड के कारण सब कुछ ठप हो गया और कुछ नुकसान भी हुआ। हालांकि, अगले सीजन में सूडान ने अब 3 एकड़ में स्ट्रॉबेरी के पौधे लगाए हैं। अभी उनके पास 70 हजार से ज्यादा पौधे हैं और हर दो दिन के बाद करीब 300 किलो उत्पादन हो रहा है, सूडान का कहना है कि इस बार दोगुना मुनाफा होने की उम्मीद है।

आपको स्ट्रॉबेरी कब लगानी चाहिए?

मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र जैसे राज्यों में सितंबर-अक्टूबर में स्ट्रॉबेरी की रोपाई की जाती है। उत्तराखंड, हिमाचल जैसे पहाड़ी राज्यों में इसे अक्टूबर से दिसंबर तक लगाया जाता है। अन्य राज्यों में भी यह इन महीनों में आयोजित किया जाता है। चूंकि पौधे का चक्र लगभग 6 महीने का होता है। इसके लिए तापमान 30 डिग्री से अधिक नहीं होना चाहिए। इसके लिए सबसे पहले जमीन की तैयारी की जाती है। तीन से चार बार खेत की जुताई करने के बाद गोबर की भरपूर मात्रा मिला लें। फिर 2 फीट का गैप छोड़कर अलग-अलग बेड तैयार कर लें। प्रत्येक बिस्तर की चौड़ाई लगभग 60 सेमी है और लंबाई खेत की लंबाई जितनी लंबी है। एक पौधे के बीच 12 सेमी की दूरी होती है। रोपण के बाद हर दो से तीन दिन में ड्रिप सिंचाई विधि से सिंचाई करनी चाहिए। चूंकि स्ट्रॉबेरी के पौधे की ऊंचाई कम होती है। इसके फल जमीन में चिपक कर खराब हो जाते हैं। इसलिए पौधरोपण करते समय मल्चिंग करना जरूरी है। ताकि फल निकले तो वे जमीन की जगह पन्नी पर ही रहें।

इसके लिए किस तरह की मिट्टी की जरूरत है?

स्ट्रॉबेरी की खेती के लिए लाल मिट्टी बेहतर होती है। सुनिश्चित करें कि खेत में पानी का ठहराव न हो। साथ ही इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए कि मिट्टी नरम और भुरभुरी हो। जिससे पौधे की जड़ अंदर तक जाती है। स्ट्राबेरी सर्दियों की फसल है। गर्मी बढ़ने के साथ ही फसल को नुकसान होने लगता है। इसके लिए तापमान 30 डिग्री से कम होना चाहिए। हालांकि आप पॉलीहाउस और कूलर लगाकर तापमान को थोड़ा नियंत्रित कर सकते हैं, लेकिन इससे उत्पाद की गुणवत्ता प्रभावित होगी और लागत भी अधिक आएगी।

मार्केटिंग के लिए क्या करें? अगर फल नहीं बिकता है तो क्या करें?

बड़े शहरों के साथ-साथ छोटे शहरों में भी स्ट्रॉबेरी की डिमांड है। हालांकि, कोविड के बाद इसकी मांग और भी बढ़ गई है। यह स्थानीय बाजार के साथ-साथ बिग बास्केट और सुपर फूड स्टोर्स में भी अच्छी कीमत पर उपलब्ध है। कई किसान ऑनलाइन भी बेचते हैं। अगर इसके बाद भी आपके पास फल बचा है तो परेशान होने की जरूरत नहीं है। आप इसे कोल्ड स्टोरेज में भी रख सकते हैं या आप इसका गूदा प्रसंस्करण के लिए तैयार कर सकते हैं। इससे अचार, आइसक्रीम, चॉकलेट, मिठाई समेत कई चीजें बनाई जाती हैं। बड़ी कंपनियां इससे दवा और इम्यून बूस्टर उत्पाद भी बनाती हैं। आप उन्हें अपने उत्पाद की आपूर्ति कर सकते हैं।

स्ट्रॉबेरी की खेती में लागत और लाभ

व्यावसायिक स्तर पर स्ट्रॉबेरी की खेती के लिए कम से कम एक एकड़ भूमि की आवश्यकता होती है। जिसमें करीब 24 हजार प्लांट लगाए गए हैं। एक प्लांट की कीमत करीब 10 रुपये है। यानी 2.4 लाख प्लांट खर्च। इसके अलावा मल्चिंग, ड्रिप इरिगेशन, खेत की तैयारी और रखरखाव में खर्च होता है। कुल मिलाकर करीब 4 लाख रुपये की जरूरत है। हालांकि, सरकार की ओर से 50 प्रतिशत तक सब्सिडी भी मिलती है। अगर मुनाफे की बात करें तो एक पौधे से करीब 500 ग्राम फल निकलते हैं। यानी प्रति एकड़ करीब 12 टन स्ट्रॉबेरी का उत्पादन होता है। अगर इसे 100 रुपये किलो बेचा जाता है तो 12 लाख रुपये की बिक्री होगी। यानी एक सीजन में करीब 8 लाख का मुनाफा। यदि आप बड़े शहरों में बेचते हैं तो आपको अधिक लाभ प्राप्त होगा। वहां इसकी कीमत 200 रुपए किलो तक है। कई किसान अधिक लाभ के लिए समय से पहले बुवाई करते हैं। ताकि जब बाजार में स्ट्रॉबेरी कम उपलब्ध हो तो वे बेहतर कीमत पर बेच सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.