Basant Panchami 2022: बसंत पंचमी के दिन बच्चों के लिए करें ये उपाय, वाणी दोष दूर होंगे और पढ़ने में मन लगेगा

Basant Panchami 2022: बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की पूजा की जाती है. बसंत पंचमी माघ शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को मनाई जाती है। इस दिन को माता सरस्वती के अवतरण दिवस के रूप में मनाया जाता है।

Basant Panchami 2022: बसंत पंचमी के दिन मां सावरस्वती 2022 की पूजा की जाती है. बसंत पंचमी 2022 माघ मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को मनाई जाती है। इस दिन को माता सरस्वती के अवतरण दिवस के रूप में मनाया जाता है। आपको बता दें कि इस बार बसंत पंचमी 5 फरवरी को मनाई जाएगी।

शास्त्रों के अनुसार मां सरस्वती के हाथों में वीणा, पुस्तक और माला है। वह सफेद कमल पर विराजमान वराह-मुद्रा में प्रकट हुईं। शास्त्रों के अनुसार वीणा से वीणा तोड़ते ही सभी जीवों को वाणी मिल गई। धारा में हलचल थी और हवा में सरसराहट थी। तभी से उन्हें ज्ञान, विद्या, वाक्, संगीत और कला की अधिष्ठात्री देवी कहा जाने लगा।

ऐसा माना जाता है कि ज्ञान और वाणी की देवी मां सरस्वती की पूजा करने से मूर्ख भी विद्वान बन जाता है। इतना ही नहीं वाणी से जुड़ी हर परेशानी दूर हो जाती है। ऐसी धार्मिक मान्यता है कि अगर किसी बच्चे को किसी भी प्रकार का वाणी दोष है या पढ़ाई में मन नहीं लगता है तो बसंत पंचमी के दिन ये उपाय करें।

वाणी दोष दूर करने के लिए

मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन यदि किसी बच्चे को वाणी दोष हो तो चांदी की सुई या कलम की नोक से केसर की सहायता से उसकी जीभ पर ‘ऐ’ लिख दें। कहते हैं इससे बच्चे की जीभ साफ हो जाती है और वाणी दोष दूर हो जाते हैं. इतना ही नहीं वह बात करने की कला में भी माहिर हैं।

जब आपका पढ़ाई में मन नहीं लगता

यदि बच्चे का मन पढ़ाई में नहीं लगा है, या पढ़ाई से चोरी करता है तो बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती को हरे फल चढ़ाने से लाभ होता है। वहीं बच्चे के स्टडी रूम में स्टडी टेबल के पास मां सरस्वती की तस्वीर लगाएं। पढ़ाई से पहले मां को प्रणाम करके ही नियमित पढ़ाई करने को कहें। मां सरस्वती की पूजा करने के बाद बच्चे की जीभ पर शहद से बना लें। ऐसा करने से बच्चा ज्ञानी बनता है।

यहां दी गई जानकारी केवल अनुमानों और सूचनाओं पर आधारित है। यहां यह उल्लेख करना महत्वपूर्ण है कि ABPLive.com किसी भी प्रकार के विश्वास, सूचना का समर्थन नहीं करता है। किसी भी जानकारी या धारणा को लागू करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.