शादी के वक्त महिला आईएएस ने नहीं करवाया अपना दान, कहा- ‘मैं दान की चीज नहीं हूं, मैं आपकी बेटी हूं’

मध्य प्रदेश के नरसिंहपुर जिले के जोबा गांव से एक बड़ी खबर सामने आई है. यहां हुई एक महिला आईएएस अधिकारी और आईएफएस अधिकारी की शादी चर्चा में है। IAS तपस्या परिहार ने UPSC परीक्षा में 23वीं रैंक हासिल की है और हाल ही में IFS अधिकारी गौरवित गंगवार से शादी की है।


दोनों की शादी इसलिए चर्चा में है क्योंकि तपस्या ने कन्यादान को मना कर दिया था। हिंदू संस्कृति में कन्यादान का विशेष महत्व है, लेकिन नरसिंहपुर जिले में जन्मी तपस्या परिहार ने सारे बंधन तोड़ दिए और कन्यादान की रस्म को अपने विवाह में नहीं होने दिया।

तपस्या ने अपने पिता से कहा, ‘मैं दान नहीं हूं, मैं तुम्हारी बेटी हूं’, यह कहते हुए कि उसने विवाह समारोह की अनुमति नहीं दी। रिश्तेदार व परिचित शामिल हुए।

आप सभी जानते ही होंगे कि हिंदू संस्कृति में कन्यादान का विशेष महत्व है, लेकिन नरसिंहपुर जिले में जन्मी तपस्या परिहार ने अपने विवाह में कन्यादान की रस्म नहीं होने दी, इसीलिए यह विवाह चर्चा में है और लोग कह रहे हैं कि तपस्या अच्छी है और खराब।

वहीं आईएएस अधिकारी तपस्या का कहना है कि ‘बचपन से ही वह समाज की इस विचारधारा के बारे में सोचती थीं कि कोई मुझे कैसे दान कर सकता है, वह भी बिना मेरी मर्जी के। धीरे-धीरे मैंने अपने परिवार से भी बात की और घरवाले भी इस बात के लिए राजी हो गए। तब दूल्हे पक्ष को भी इसके लिए राजी किया गया और बिना बेटी दिए ही शादी कर दी गई।

आईएएस तपस्या परिहार का कहना है कि ‘अगर दो परिवार एक साथ शादी कर लेते हैं, तो बड़ा, छोटा या ऊंचा और नीचा होना सही नहीं है। कोई दान क्यों करे और जब मैं शादी के लिए तैयार हुआ तो मैंने भी अपने परिवार वालों से चर्चा कर कन्यादान की रस्म को शादी से दूर रखा।

वहीं तपस्या के पति आईएफएस गर्वित कहते हैं, ‘क्यों एक लड़की को शादी के बाद पूरी तरह से बदलना पड़ता है। बात चाहे डिमांड भरने की हो या कोई ऐसी परंपरा जो साबित कर सके कि लड़की शादीशुदा है। इस तरह की रस्में कभी भी लड़के पर लागू नहीं होती हैं और हमें धीरे-धीरे ऐसी मान्यताओं को खत्म करने की कोशिश करनी चाहिए। तपस्या के पिता भी शादी से खुश हैं। हालांकि कई लोग तपस्या के इस कदम को गलत बता रहे हैं और उनका कहना है कि हर रस्म को हिंदू मानकर ही निभाना चाहिए.

Leave a Reply

Your email address will not be published.