जल्दी शादी के लिए रामबाण हैं ये 5 वास्तु उपाय, जीवनसाथी से कभी नहीं होता विवाद

नई दिल्ली: विवाह हिंदू धर्म के प्रमुख 16 संस्कारों में से एक है। इसे बहुत महत्व का संस्कार माना जाता है। इस समारोह में कई रीति-रिवाजों का पालन किया जाता है। कई बार शादी में बेवजह देरी हो जाती है। वहीं कई बार ऐसा भी होता है कि सब कुछ तय हो जाने के बाद भी बात नहीं बनती. विवाह में देरी या बाधाओं के पीछे कई कारण होते हैं, जिन्हें दूर करने के लिए वास्तु में विशेष उपाय बताए गए हैं। वास्तु शास्त्र के ये उपाय शादी में आ रही कई तरह की बाधाओं को दूर कर दांपत्य जीवन को खुशहाल बनाते हैं।

शीघ्र विवाह के लिए वास्तु उपाय

यदि कोई आपके घर में विवाह का प्रस्ताव लेकर आता है तो उसे ऐसी जगह बिठाएं जहां से घर का मुख्य द्वार दिखाई न दे। यानी उन्हें घर के मुख की ओर बैठाएं।
जिस पलंग पर आप सोते हैं उसके नीचे बेकार की चीजें या लोहे का कोई सामान न रखें। वास्तु के अनुसार ये विवाह में बाधा उत्पन्न करते हैं।

कभी-कभी मंगल दोष के कारण विवाह में परेशानी आती है। इस दोष को दूर करने के लिए कमरे के मुख्य द्वार को गुलाबी या हल्के लाल रंग से रंगवाएं।

अपने कमरे में कोई खाली बर्तन या टंकी न रखें। अगर यह पहले से मौजूद है, तो उसे तुरंत हटा दें। इसके अलावा कमरे से ज्यादा भारी चीजें भी हटा दें।

यदि घर के मुख्य द्वार से संबंधित किसी भी प्रकार का वास्तु दोष हो तो विवाह के मामले को अंतिम रूप देने के लिए दूसरी जगह का चुनाव करना चाहिए।

शीघ्र विवाह के अन्य उपाय

सोमवार के दिन सवा किलो चने की दाल और सवा लीटर कच्ची गाय का दूध दान करें। इससे विवाह में देरी की समस्या से निजात मिलती है।

यदि शनि दोष के कारण विवाह में देरी हो रही हो तो शनिवार के दिन सरसों के तेल में अपनी छाया देखकर दान करें। ऐसा लगातार सात शनिवार तक करना चाहिए।

अगर किसी महिला की शादी नहीं हो रही है, तो शादी के लिए दुल्हन को हाथों में मेहंदी लगवाएं। इससे शीघ्र विवाह का मार्ग प्रशस्त होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.