आख़िर पैर में धागा बांधने के पीछे का असल कारण आखिर है क्या?

अक्सर आप लोगों ने देखा होगा कि कुछ लोगों के पैर में काले रंग का एक धागा बंधा हुआ होता है। इस सूची में लड़के-लड़कियों सब कोई शामिल होते हैं। कहा जाता है पैर में ये काला धागा बांधने की ये परंपरा कोई आज की नहीं है बल्कि काफ़ी ज्यादा प्राचीन है। कुछ घरों में, जैसे कोई बच्चे का जन्म होता है उसके कुछ समय बाद ही उसके पैर पर काला धागा ही बांध दिया जाता है।लेकिन आज के समय में अगक किसी से ये पूछा जाता है कि पैर में काला धागा बांधा क्यों जाता है तो अधिकतर लोगों के पास इसका उत्तर तक नहीं होता। यानि ज्यादातर लोग इसे शौकीय तौर पर पहन ही लेते हैं। इतना ही नहीं बल्कि इसे एक तरह का फैशन ट्रैंड समझकर देखो-देखी में कुछ लोग तो अलग-अलग तरह के डिज़ाईन का धागा बनाकर भी पैरों में बांधते हैं।


अब सवाल ये उठता है कि आख़िर पैर में धागा बांधने के पीछे का असल कारण आखिर है क्या? तो चलिए आज हम आपको इसके बारे में पूरी जानकारी देते हैं कि इसके पहनने का असल कारण है क्या। धर्म शास्त्रों के अनुसार काले धागा का महत्व मानव जीवन में बहुत ही ज्यादा है। इसमें बताया गया है कि अगर कोई व्यक्ति मंगलवार के दिन अपने दाहिने पैर में काला धागा बांधता है तो इसके शुभ प्रभाव से घर में लक्ष्मी का आगमन भी होता है और सदैव उस पर देवी लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है। इसके अलावा ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जिस किसी के घर में धन संबंधी कोई समस्या हो तो उसे प्रत्येक मंगलवार के दिन दाएं पैर में काला धागा बांधना लाभदायक भी साबित होता है।

अगर किसी व्यक्ति के पेट में बहुत ही ज्यादा दर्द रहता हो तो, कि उसे बर्दाश्त करना बहुत मुश्किल हो जाता हो। ऐसी परिस्थिति में काले धागे को अपने पैरों के अंगूठे में बांधे इससे आपको दर्द से मुक्ति भी मिल जाएगी।

अगर किसी के पैरों में चोट भी लगी हो और कई दिनों तक ठीक न हो रही हो। ऐसे में पैरों में काला धागा बांधने से जल्दी ही आराम मिलता है।

इसके अलावा कहा जाता है काला धागा हर बुरी नज़र से भी बचाकर रखता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.