Breaking News
Home / बॉलीवुड / कभी शादियों में गाना गाते थे सोनू निगम, लोग कहने लगे थे दूसरा मोहम्मद रफी

कभी शादियों में गाना गाते थे सोनू निगम, लोग कहने लगे थे दूसरा मोहम्मद रफी

सोनू निगम ने अपनी आवाज के जादू से लाखों चाहने वाले पैदा कर लिए हैं. सोशल मीडिया पर उनके चाहने वालों की बड़ी संख्या है. उनकी आवाज का जादू कुछ ऐसा हैं कि इसने पूरे देश में उनकी गायकी का लोहा माना और वे हर वर्ग के लोगों की पसंद बन गए. सिंगर सोनू निगम का जन्म 30 जुलाई 1973 को हरियाणा के फरीदाबाद में हुआ था. सोनू को बचपन से गाना गाने का शौक था. सोनू को गाने का हुनर अपने पिता से मिला था.


सोनू निगम हिंदी सिनेमा का एक चमकता हुआ सितारा हैं. आज भले सोनू की गिनती बड़े बड़े दिग्गजों में होती हो लेकिन एक वक्त ऐसा भी था जब वह शादियों में गाया करते थे.चार साल की उम्र से ही सोनू निगम गायिकी का हुनर दिखाने लगे थे. सोनू अपने पिता अगम निगम के साथ छोटी उम्र में ही स्टेज शोज, पार्टियों और शादियों में गाना गाने लगे थे.सोनू बचपन से ही दिग्गज गायक मोहम्मद रफी से बहुत प्रभावित थे. यही कारण है कि जब स्टेज पर अक्सर रफी के गाने ही गाते हैं.

करियर के शुरूआती दिनों में मुंबई में उन्होंने काफी संघर्ष किया. बाद में टी सीरीज के प्रमोटर गुलशन कुमार ने उन्हें बड़ी आडियंस तक पहुंचने का उन्हें मौंका दिया. प्लेबैक सिंगर के तौर पर उनका पहला फिल्मी गाना जानम फिल्म कें लिए था जो कि आधिकारिक तौर पर रिलीज ही नहीं हुई. फिर वे रेेडियो काॅमर्शियल्स बनाने लगे और उसमें से कुछ में उन्होंने अभिनय भी किया..

1995 में वे पापुलर टीवी शो ‘सा रे गा मा पा’ होस्ट करने लगे। इसके बाद, उन्होंनेे फिल्म बेवफा सनम का गाना ‘अच्छा सिला दिया’ गाया. उन्होंनेे फिल्म बाॅर्डर में अनु मलिक द्वारा कम्पोज किए गए सांग ‘सन्देसे आते हैं’ को भी गाया जो कि काफी हिट हुआ और लोगों की जुबान पर चढ़ गया.


वहीं फिल्म परदेस में ‘ये दिल’ गाने ने भी लोगों का दिल जीता। 1999 में टी सीरीज ने निगम का अल्बम दीवाना रिलीज किया, इसका संगीत साजिद वाजिद ने दिया था. सोनू ने गायकी के अलावा एक्टिंग में हाथ आजमाया था. सोनू ने कई फिल्मों में अभिनय भी किया लेकिन उन्हें वो कामयाबी हासिल नहीं हो पाई जो गायिकी में हुई. सोनू निगम ने फिल्म लव इन नेपाल से बतौर अभिनेता भी सिनेमा में डेब्यू किया.


लेकिन जब एक्टिंग में सफलता नहीं मिली तो फिर उन्होंने गायिकी पर ही फोकस किया था

सोनू ने हिन्दी की कई अन्य फिल्मों में भी गाने गाए और कई पुरस्कार जीतें. उन्हें फिल्म कल हो ना हो के टाइटल सांग और फिल्म अग्निपथ के गाने ‘अभी मुझमें कही’ के लिए काफी सराहना मिली. उन्होंने रोमांटिक, राॅक, सैड, देशभक्ति जैसी हर तरह की शैलियों के गाने गाए है ।

sorce

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *