Breaking News
Home / बॉलीवुड / पंकज त्रिपाठी स्ट्रगल के दौरान काम के लिए घूमते थे अंधेरी में, अब पार्किंग में ऑफर हो जाती हैं फिल्में

पंकज त्रिपाठी स्ट्रगल के दौरान काम के लिए घूमते थे अंधेरी में, अब पार्किंग में ऑफर हो जाती हैं फिल्में

आपनी नेचुरल एक्टिंग के लिए अभिनेता पंकज त्रिपाठी ने फिल्म इंडस्ट्री में अपनी एक अलग ही पहचान कायम की है ।बिहार के एक छोटे से गांव में जन्मे इस कलाकार का बॉलीवुड में इतना बड़ा मुकाम हासिल करना इतना आसान भी नहीं था। यह जितने सरल टीवी पर नजर आते हैं वास्तविक जीवन में भी यह उतने ही सीधे, सरल एवं सादा जीवन व्यतीत करते हैं।कहा जाता है कि पंकज त्रिपाठी किसी समय में बॉलीवुड में एंट्री पाने के लिए तो बहुत है मिन्नतें किया करते थे। वह दिन भर संघर्ष करते हुए कोशिश करते थे कि उन्हें कहीं ना कहीं, कोई भी छोटा-मोटा रोल ही ऑफर हो जाए ।लेकिन यह संघर्ष इतना आसान नहीं था ।


जब इनके संघर्ष का दौर चल रहा था ।तब इनका साथ उनकी पत्नी द्वारा दिया गया ।वह उनका साथ देते हुए कभी भी पीछे नहीं हटी। संघर्ष की घड़ी में कई बार घर का आर्थिक माहौल भी डगमगाने लगा था। तब इनकी पत्नी घर भी चलाती थी और साथ ही साथ उनका स्वयं का खर्चा भी उठाती थी। घर के किराए से लेकर किराना के समान तक का सारा खर्चा उनकी पत्नी द्वारा ही उठाया जाता था। 2004 में इन्होंने बॉलीवुड में एंट्री की लेकिन इनको असली शोहरत 8 साल बाद 2014 में फिल्म गैंग ऑफ वासेपुर से मिली ।


जिसमें इन्होंने सुल्तान कुरेशी का रोल प्ले किया था ।इसमें उनके अभिनय को बहुत सराहा गया था। इस फिल्म के ऑडिशन के लिए भी इन्हें बहुत संघर्ष करना पड़ा था। इन्होंने लगभग 8 घंटे का ऑडिशन दिया था लेकिन इसके बाद जब इस सितारे की किस्मत चमकी जो आज तक चमकी हुई है ःइसके बाद तो जैसे उनके पास फिल्मों की लाइन ही लग गई और इनके पास अच्छे फिल्मों के ऑफर आने लगे, जिनमें फुकरे, मसान, निल बटे सन्नाटा, बरेली की बर्फी आदि फिल्में शामिल हैं ।इसके बाद उनके द्वारा की गई न्यूटन फिल्म में भी इनके अभिनय को बहुत सराहना मिली थी। अपने संघर्ष के दिनों को याद करते हुए वे कहते हैं कि फिल्मों के काम करने के लिए वे दिन-रात घूमा करते थे ।


वह हमेशा ही हर समय अंधेरी के चक्कर लगाया करते थे कि उन्हें कोई भी रोल ऑफर हो जाए ।लेकिन जब समय ने करवट ली तो उनका संघर्ष रंग लाया। वे कहते हैं कि एक समय था कि जब उनकी बातों को बिल्कुल भी नहीं सुना जाता था। ना हीं उन्हें कोई रोल दिया जाता था ।

लेकिन आज ऐसा समय है किअपने घर की पार्किंग में ही डायरेक्टर उन्हें फिल्मों के ऑफर दे देते हैं। उन्हें अपनी फिल्म में काम करने के लिए फोर्स करते हैं। उनसे पूछते रहते हैं कि वह कब फिल्म साइन करेंगे।फिलहाल एक्टर पंकज त्रिपाठी अपनी आने वाली फिल्मों को लेकर बहुत व्यस्त हैं। हाल ही में प्रदर्शित इन की फिल्म मिम्मी में इनके हास्य पद किरदार को उनके फैंस द्वारा बहुत पसंद किया गया था।

sorce

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *